Breaking News

पिता का दर्द देख 13 साल के बच्चे ने खड़ी कर दी कंपनी, 2 साल में 100 करोड़ कमाने का टारगेट

अगर कोई आपसे यह कहे कि एक लड़का जिसने किशोरावस्था में प्रवेश करते ही बिजनेसमैन का तमगा हासिल कर लिया, तो अधिकांश लोगों को विश्वास नहीं होगा। लेकिन ऐसा किया मुंबई के रहने वाले तिलक मेहता ने। उसने कुछ ही देर में छोटे सामानों की डिलीवरी के लिए एक स्टार्टअप ‘पेपर्स एंड पार्सल्स’ (PnP) नाम से लॉजिस्टिक्स कंपनी खोल दी।

ऐसे शुरू हुआ सफ़र

मुंबई के रहने वाले 13 साल के तिलक मेहता का जन्म 2006 में एक साधारण परिवार में हुआ। 8 वीं का छात्र तिलक हर रोज अपने पिता को काम से थक हारकर घर आते हुए देखता था और उसे यह बात परेशान कर देती थी कि वो अपने पिता की कोई मदद नहीं कर पा रहा है। तिलक के मुताबिक, एक बार मुझे शहर के दूसरे छोर से कुछ किताबों की तत्काल जरूरत थी। पिता काम से थके हुए आये इसलिए मैं उनसे अपने काम के लिए कह नहीं सका और कोई दूसरा ऐसा नहीं था, जिसे कहा जा सकता था। इसी आइडिया को बिजनेस बनाकर कुरियर कंपनी खड़ी हुई। तिलक का कहना है कि वहीं से उसे मुंबई शहर के अंदर 24 घंटों के भीतर छोटे पार्सल पहुंचाने के लिए एक स्टार्टअप कंपनी शुरू करने का आइडिया आया।

बैंककर्मी से शेयर किया अपना प्लान

तिलक को अपनी कंपनी शुरू करने के लिए एक परिपक्व और बिजनेस की गहरी जानकारी रखने वाले व्यक्ति की जरूरत थी। इस बाबत उसने अपना प्लान एक बैंक कर्मचारी घनश्याम पारेख से शेयर किया। बैंककर्मी को तिलक प्लान इतना पसंद आया कि उसने तुरंत बैंक की नौकरी छोड़ तिलक की कंपनी स्थापना करने में जुट गए। उन्होंने इस बच्चे की स्टार्टअप कंपनी को बतौर मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अंजाम तक पहुंचाने का बीड़ा भी उठाया। पार्सल को 24 घंटों के अंदर गंतव्य तक पहुंचाना सुनिश्चित करने के लिए तिलक ने मुंबई के डिब्बावालों के विशाल नेटवर्क का फायदा उठाया। हालांकि, ‘ऋषभ सीलिंक’ नामक जिस लॉजिस्टिक्स कंपनी में तिलक के पिता सीईओ हैं, वहां से वह अपने काम की शुरुआत कर सकता था, लेकिन उसने ‘बना बनाया निवाला’ निगलने की बजाए एकदम शुरुआत से बिजनेस शुरू करने का प्लान बनाया।

रोजाना 1000 से ज्यादा पार्सल की होती है डिलीवरी

पीएनपी मुख्य रूप से मोबाइल एप्लीकेशन आधारित है, जिसके कर्मचारियों की संख्या 200 को पार कर गई है। इसके अलावा कंपनी से 300 से ज्यादा डब्बा वाले जुड़े हुए हैं, जिनके माध्यम से कंपनी रोजाना 1000 से ज्यादा पार्सल उसी दिन अपने गंतव्य तक डिलीवर करती है।

डिब्बावाले का करते हैं मदद

डिब्बावाले अपने मूल कार्य के साथ इस कंपनी का भी काम करके अपनी आय बढ़ा सकते हैं। मुंबई डिब्बावाले के प्रवक्ता ने बताया है कि सैकड़ों डिब्बावालों ने इस कंपनी के कार्य को ज्वाइन किया है और एक ही साथ, एक ही समय में वे दोनों काम करके अपने इनकम में इजाफा करते हैं और लोगों को सहूलियत भी मिल जाती है।

About Vivek Shahi

Check Also

आमिर खान की बेटी ईरा खान के बॉयफ्रेंड को धमकी मिलने से मच गया हंगामा

बॉलीवुड के सुपरस्टार आमिर खान की बेटी इरा खान के ब्वॉयफ्रेंड को धमकी मिली है …

Leave a Reply

Your email address will not be published.